घरओवरवियूसंगठनात्मक व्यवस्थाइन्फ्रास्ट्रक्चरभविष्य की रणनीतिगैलरीप्रशासनG2G Loginमुख्य पृष्ठ     View in English    
  बागवानी के ऑनलाइन पोर्टल में आपका स्वागत है     हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना-पर्यावरण एवं सामाजिक प्रबंधन रुपरेखा      उद्यान प्रसार अधिकारी भर्ती    
मुख्य मेन्यू
एक नज़र में बागवानी
नागरिक सेवाएं
सामान्य सूचना
वार्षिक प्रशासनिक प्रतिवेदन
आर. एफ. डी.
फ्लोरीकल्चर
छिडकाव सारिणी
बागवानी सम्बंधित मासिक कार्यसारिणी
फल परिरक्षण सम्बंधित कार्यसारिणी
कीटों की रोकथाम के लिए मासिक कार्य सारिणी
पुष्प उत्पादन सम्बन्धित मासिक कार्य सारिणी
विभागीय फलोद्यान /फल पौधशालाओं हेतु मानक संचालन प्रक्रिया
प्रशिक्षण पुस्तिका
परिचालन संदर्शिका
सूचना का अधिकार नियम 2005
निविदा
सम्बंधित वेबसाइटे
हमसे सम्पर्क करें
मौसम और ऐड ऑन आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम 2018-19
फफूंदनाशकों/कीटनाशकों की परीक्षण रिपोर्ट
नागरिक प्राधिकरण
लोकसेवा गारंटी सेवाएँ सम्बन्धी-अधिसूचना
हिमाचल प्रदेश में फलों के पेड़ का मूल्याकन मापदंड
शिकायत निवारण तंत्र के तहत प्रावधानों को लागू करने के लिए परियोजान की सुरक्षा व्यवस्था
नीलामी सुचना
वर्षाकालीन फल पौधों की दर
शरदकालीन फल पौधों की दर
फ़रवरी

फ़रवरी पहला पखवाड़ा


  1. खुमानी, आडू, नाशपाती में कलम करने का कार्य शुरू करें|


  2. गुठलीदार फलों में नाइट्रोजन  की आधी मात्रा डालने का यह उचित समय हैं|    


  3. कांट-छांट का कार्य पूरा कर लें|


  4. कीवी, अनार व अंगूर की कलमें पौध तैयार करने के लिये लगा दें|



सदाबहार फल :-


  1. पौधों में यदि गोबर व रासायनिक उर्वरक न डालें हो तो यह कार्य पूरा कर लें|


  2. आम, निम्बु प्रजातीय व लीची आदि फलों में नाईट्रोजन की आधी मात्रा डालने का उचित समय हैं|


  3. आवश्यकता अनुसार सिंचाई करें|


  4. जहाँ पर सिंचाई की सुविधा हो, आम, लीची व निम्बू प्रजाति फलों का रोपण करें|


फ़रवरी दूसरा पखवाड़ा

  1. गुठलीदार फलों, अखरोट, पीकननट, कीवी तथा सेब में कलम करने का काम करतें रहे|


  2. गुठलीदार पौधों व नाशपाती में टॉप वर्किंग का काम पूरा कर लें|


  3. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जहां बर्फ पिघल चुकी हो तथा खाद न डाली हो वहाँ पर गोबर व पोटाश डालें|


  4. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पौध रोपण का कार्य पूरा कर लें|


  5. शुष्क शीतोष्ण क्षेत्रों में अंगूर कांट-छांट पूरी कर लें|


  6. गुठलीदार फलों में नाइट्रोजन की आधी मात्र डालें|

सदाबहार पौधें:-


  1. पौधों से सुखी व रोगग्रस्त टहनियों की कांट-छांट करें|


  2. सूखे की अवस्था में सिंचाई करें|
मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|दिशा निर्देश और प्रकाशन|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|घोषणाएँ|नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग
Visitor No.: 03219221   Last Updated: 13 Jan 2016