HomeOverviewOrganisational SetupInfrastructureFuture StrategiesGalleryAdministrationG2G LoginMainRecruitments     हिंदी में देंखे    
  Welcome to Online Portal of Horticulture     Himachal Pradesh Horticulture Development Project- Environmental and Social Management Framework    Recruitment for the post of HEO 2019-20    
Main Menu
Horticulture at a Glance
Citizen Services
General Information
Annual Administrative Report
Schematic Budget
Floriculture
Spray Schedule
Horticultural Monthly Work Schedule
Fruit Preservation Monthly Work Schedule
Preventing Fruit Pests Work Schedule
Floriculture monthly work schedule
Standard Operating Procedure for PCDO & F.N.
Training Manual
Operations Guide
RTI ACT 2005
Tender
Related Websites
Contact Us
Notification of Restructured WBCIS & Add on Index plus cover scheme for Rabi season 2018-19
Test Reports of Fungicides/Insecticides
Citizen Charter
Notification of PSG Services
Evaluation Criteria of Fruit Trees in Himachal Pradesh
Safeguard Arrangements of Project for implementing the Provisions under GRM
Auction Notice
Rates of rainy season fruit plants
Rates of winter season fruit plants
R.F.D.
Operations Guide

बागवानी मिशन के अंतर्गत बगवनों को दी जाने वाली सहायता एवं सुविधाएँ

क्रम सं0 घटक अनुदान प्रतिशत अधिकतम अनुदान सीमा
1. पौध रोपण सामग्री का उत्पादन
(क) फल पौधों का उत्पादन
1.आदर्श पौधशाला/ बड़ी पौधशाला (2-4 है 0) 50 रू. 12.5 लाख4 है0 भूमि के लिए
2. लघु पौधशाला (1.0 है0) 50 रू. 13.125 लाख/ है0
3. उत्तक प्रबंधन (टिशू कल्चर) इकाई की स्थापना 50 रू. 50 लाख
4.उत्तक प्रबंधन (टिशू कल्चर) इकाई का पुनरुत्थान 50 रू. 7.5 लाख
(ख) सब्जियों तथा कन्दों का उत्पादन
1. ओपन पोलिनेटिड क्रोपस 75 रू. 22500/- प्रति है0
2.संकर बीज उत्पादन 75 रू. 99750/- प्रति है0
ग) परीक्षण तथा प्रदर्शन हेतु पौध उत्पादन सामग्री का आयात 75 रू. 7.5 लाख
2. बागवानी फसलों के अंतर्गत क्षेत्र विस्तार
(क) फल फसलों के अंतर्गत (अधिकतम 4 है0 प्रति लाभार्थी)
1.अधिक लागत वाली फसलें (अंगूर ,स्ट्राबेर्री, कीवी इत्यादि ) 75 रू. 75000/ प्रति है0
2. सघन बागवानी (सेब ,नाशपाती, आड़ू, आम, अमरूद, लीची , बेर इत्यादि ) 75 रू. 60000/- प्रति है0
3.सामान्य दूरी पर लगाई जाने वाली फल फसलें 75 रू. 30000/- प्रति है0
(ख) सब्जियों के अंतर्गत (अधिकतम 2 है0 प्रति लाभार्थी))
1. ओपन पोलिनेटिड सब्जियां 75 रू. 22500/ प्रति है0
2 . संकर प्रजाति की सब्जियां 75 रू. 33750/- प्रति है0
(ग) फूलों के अंतर्गत (अधिकतम 2 है0 प्रति लाभार्थी))
1. कट फ्लावर 75 रू. 52500/ - प्रति है0
2 .कन्दों से उत्पादित फूल 75 रू. 67500/- प्रति है0
3 खुले फूल 75 रू. 18000/- प्रति है0
(घ) मसालों के अंतर्गत (अधिकतम 4 है0 प्रति लाभार्थी)
बीजों तथा कन्दों से उत्पादित होने वाले मसाले 75 रू. 18750/ -प्रति है0 0
(ड.) सुगंधित पौधों के अंतर्गत (अधिकतम 4 है0 प्रति लाभार्थी)
1.अधिक लागत के सुगंधित पौधे (पचौली ,जरेनियम ,रोजमेरी इत्यादि ) 75 रू. 56250/- प्रति है0 0
2.अन्य सुगंधित पौधे 75 रू. 18750/ -प्रति है0 0
3. खुम्ब
1.एकीकत खुम्ब इकाई की स्थापना (खाद बनाना,बीज तैयार करना तथा प्रशिक्षण देना ) 50 रू. 25 लाख /-प्रति इकाई
2. बीज/स्पान तैयार करने की इकाई 50 रू. 7.5 लाख/ प्रति इकाई
3. खुम्ब खाद बनाने की इकाई 50 रू. 10 लाख/ प्रति इकाई
4. जल संसाधनों का निर्माण
1.सामुदायिक जल भंडारण टेंक /तालाब(प्लास्टिक/आर.सी.सी लाइनिंग के साथ) 100 रू. 17. 25 लाख प्रति 30000 घन मी0 प्रति 10 है0 अथवा कम क्षमता के लिए आनुपातिक दरों पर
2.वोर वैल /कुआं /तालाब (20 मी0 x 20 मी0 x 3 मी0 ) 75 रू. 1.03 लाख प्रति इकाई अथवा कम क्षमता के लिए आनुपातिक दरें
5. संरक्षित खेती (प्रोटेक्टिड़ कल्टीवेश्न )
(क) हरित गृह निर्माण
1.उच्च तकनीक 50 रू. 732.50 प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
2. नेचुरली वेंटिलेटिड सिस्टम
i.) ट्यूवलर स्ट्रक्चर 50 रू. 467.50 प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
ii.) लकड़ी निर्मित (वुडन स्ट्रक्चर) 50 रू. 257.50 प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
iii.) वांस निर्मित (वुडन स्ट्रक्चर) 50 रू. 187.50 प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
(ख) छायादार जाली गृह निर्माण
1. ट्यूवलर स्ट्रक्चर 50 रू. 300/- प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
2. लकड़ी निर्मित (वुडन स्ट्रक्चर) 50 रू. 205/- प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
3. वांस निर्मित (वुडन स्ट्रक्चर) 50 रू. 150/- प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
(ग) प्लास्टिक टनल निर्माण 50 रू. 15 /-प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 5000 वर्ग मी0 के लिए )
(घ) प्लास्टिक मलचिंग 50 रू. 10000 /-प्रति है0
(ड.) पक्षी अवरोधक / ओला अवरोधक जाली 50 रू. 10 /-प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 5000 वर्ग मी0 के लिए )
(च) हरित गृह मेँ उगाई जाने वाली सब्जियां 50 रू. 52.50-प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
(छ ) हरित गृह मेँ उगाए जाने वाले फूल 50 रू. 250 /-प्रति वर्ग मी0 (अधिकतम 4000 वर्ग मी0 के लिए )
6. एकीकृत पोषक तत्व प्रबन्धन /एकीकृत कीट प्रबन्धन
1. एकीकृत पोषक तत्व / कीट प्रबन्धन 50 रू. 100/- प्रति है0
2. बायोकंट्रोल लैव 50 रू. 40 लाख /- प्रति इकाई
3. प्लांट हेल्थ क्लिनिक 50 रू. 10 लाख /- प्रति इकाई
4. पत्ती विश्लेषण प्रयोगशाला 50 रू. 10 लाख /- प्रति इकाई
7. जैविक कृषि
1. जैविक कृषि को अपनाना 50 रू. 10000/- प्रति है0
2. केंचुआ खाद इकाई (30' x 8'x 2.5') 50 रू. 30000 /- प्रति इकाई
3. जैविक सर्टिफिकेशन प्रोजेक्ट आधारित रू. 5 लाख/- प्रति 50 है0
8. मौन पालन
1. मधुमक्खी पालक द्धारा मौन वंशों का उत्पादन 50 रू. 5 लाख (अधिकतम 2000 मौन वंश प्रति वर्ष के उत्पादन पर)
2. मौन वंश 50 रू. 700/- प्रति मौन वंश (अधिकतम 50 मौन वंश प्रति बागवान )
3. मौन गृह 50 रू. 800/- प्रति मौनगृह (अधिकतम 50 मौन गृह प्रति बागवान )
4. हनी एक्सट्रेक्टर , फूड ग्रेड कन्टेनर इत्यादि 50 रू. 7000/- प्रति सैट
9. बागवानी उपकरणों को प्रोत्साहन
1. पावर ओपरेटिड मशीन (पवार स्प्रेयर )/ टूल्ज़ इंक्ल्युडिंग पवार सा इत्यादि 50 रू. 17500/- प्रति सैट/ बागवान
2. पावर मशीन (पवार टिल्लर )20 बी0 एच0 पी0 तक 50 रू.60000/- प्रति सैट/ बागवान
3. पावर मशीन 20 बी0 एच0 पी0 या उस से ऊपर 50 रू. 1.5 लाख प्रति सैट/ बागवान
10. मानव संसाधन विकास
प्रशिक्षण शिविर महिलायें /पुरुष (2-5 दिवसीय)
1. जिला के अंदर रू. 400 प्रति बागवान /प्रति दिन
2. राज्य के अंदर रू. 750 प्रति बागवान /प्रति दिन
3. राज्य के बाहर रू. 1000 प्रति बागवान /प्रति दिन
11. प्रशिक्षण भ्रमण महिलायें /पुरुष (2-5 दिवसीय)
1. जिला के अंदर रू. 250 प्रति बागवान /प्रति दिन
2. राज्य के अंदर रू. 300 प्रति बागवान /प्रति दिन
3. राज्य के बाहर रू. 600 प्रति बागवान /प्रति दिन
Main|Equipment Details|Guidelines and Publications|Downloads and Forms|Programmes and Schemes|Announcements|Policies|Training and Services|Pests and Diseases|About Us
Visitor No.: 03460773   Last Updated: 13 Jan 2016