घरओवरवियूसंगठनात्मक व्यवस्थाइन्फ्रास्ट्रक्चरभविष्य की रणनीतिगैलरीप्रशासनG2G Loginमुख्य पृष्ठभर्तियां     View in English    
  बागवानी के ऑनलाइन पोर्टल में आपका स्वागत है     हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना-पर्यावरण एवं सामाजिक प्रबंधन रुपरेखा     बागवानी प्रसार अधिकारी के पद के लिए भर्ती 2019-20    
मुख्य मेन्यू
एक नज़र में बागवानी
नागरिक सेवाएं
सामान्य सूचना
वार्षिक प्रशासनिक प्रतिवेदन
योजनागत बजट
फ्लोरीकल्चर
छिडकाव सारिणी
बागवानी सम्बंधित मासिक कार्यसारिणी
फल परिरक्षण सम्बंधित कार्यसारिणी
कीटों की रोकथाम के लिए मासिक कार्य सारिणी
पुष्प उत्पादन सम्बन्धित मासिक कार्य सारिणी
विभागीय फलोद्यान /फल पौधशालाओं हेतु मानक संचालन प्रक्रिया
प्रशिक्षण पुस्तिका
परिचालन संदर्शिका
सूचना का अधिकार नियम 2005
निविदा
सम्बंधित वेबसाइटे
हमसे सम्पर्क करें
मौसम और ऐड ऑन आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम 2018-19
फफूंदनाशकों/कीटनाशकों की परीक्षण रिपोर्ट
नागरिक प्राधिकरण
लोकसेवा गारंटी सेवाएँ सम्बन्धी-अधिसूचना
हिमाचल प्रदेश में फलों के पेड़ का मूल्याकन मापदंड
शिकायत निवारण तंत्र के तहत प्रावधानों को लागू करने के लिए परियोजान की सुरक्षा व्यवस्था
नीलामी सुचना
वर्षाकालीन फल पौधों की दर
शरदकालीन फल पौधों की दर
आर. एफ. डी.
गतिविधियां

 

क्रियाकलाप


हिमाचल प्रदेश में उद्यान विभाग द्वारा बागवानी विकास से संबंधित गतिविधियों पर ध्यान दिया जा रहा है, साथ ही कृषक परिवारों की सामाजिक व आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने हेतु कुछ उदेश्य नीचे दिये गये है:

 

(i)क्षेत्र विस्तार:-

    हिमाचल प्रदेश में 15 से 20 लाख तक विभिन्न प्रकार के फल पौधें किसानों में बांटे जाते है जिनका रोपण प्रतिवर्ष 6000-7000 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में किया जाता है, इसमें पुराने बागों का जीर्णोद्धार भी शामिल है.

     

    (ii) उत्पादन के लिए उचित रोपण सामग्री की पूर्ति :-

      विभिन्न प्रकार के फलों के उत्पादन व रोपण सामग्री की पूर्ति के लिए 98 प्रोगेनी-कम-डेमोस्ट्रेशन बाग, 662 निजी नर्सरियां और नर्सरियों की व्यवस्था की गई है. हिमाचल प्रदेश अधिकांश शीतोष्ण फल पौधों के उत्पादन एवं पूर्ति करने में आत्मनिर्भर है लेकिन आम, नींबू और अन्य उप उष्णकटिबंधीय फल, जैसे अखरोट, पेकान, कीवी फल, चेरी और स्पर (सेब) आदि की रोपण सामग्री की कमी है| फल पौधों की रोपण सामग्री का उत्पादन बढ़ाने के लिए विभिन्न तरह के कार्यक्रम शुरू किये गये है. रोपण सामग्री के तीव्र प्रसार के लिए दो प्लांट टिशू कल्चर प्रयोगशालाएं प्रत्येक सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में स्थापित की गई है| उत्पादकों को शीतोष्ण फल जैसे सेब, नाशपाती, चेरी आदि का मूल विर्यंत बढ़ाने के लिए फल संतति एवं प्रदर्शन उद्यान /पौधशालाओं( पीसीडीओ) द्वारा प्रतिरूप उपलब्ध करवाये जा रहे है.

       

      (iii)उन्नत संयंत्र सामग्री का परिचय: -

      उन्नत देशों की भांति देश के अन्य राज्यों में फलों की बेहतर किस्मों के विकास के लिए हिमाचल प्रदेश में उद्यान विभाग सातवीं पंचवर्षीय योजना से प्रयास कर रहा है. निम्नलिखित विभिन्न प्रकार के फलों की खेती की शुरूआत की गई है:



      क्र. सं. फल का नाम मूल विर्यंत व् किस्मो की शुरुआत
      1 सेब ओरेगन स्पर, सिल्वर स्पर, वेल स्पर , स्टार्क रिम्सन , रेड चीफ रॉयल गाला, समर रेड, ब्राइटव् अर्ली, क्राईटेरियन, मुत्सू , रियल मैककॉय डिलीशियस, पार्क डेल ब्यूटी, स्कारलेट स्पर, ब्रैबुम , गोल्ड स्पर, कॉम्पैक्ट विंटर केले प्रेरणा , रेड ग्रेवन स्टीन , अर्ली रेड वन , स्पारटन , एलास्टर एलशोफ , गाला मीट्सचला (विख्यात ), फ़ूजी किकू एट, गोल्डन डिलीशियस क्लून बी, कैम स्पर (रेड डेल), ग्लोस्टर, टॉप रेड
      क्रैब सेब - गोल्डन हॉर्नेट, मंचूरियन, स्नो ड्रिफ्ट , रेड फ्लेश

      मूल विर्यंत - एम 4, एम 7, एम् 9, एम 26, एमएम 106, एमएम -111, एम

      793, एएनएलएआरपी-ए 2, बड 9

      2 नाशपाती मैक्स रेड बार्टलिटे, कान्फ्रेंस, रेड सेंसेशन, अन्जोऊ, शिनसिकी, निजीसिकी, चोजूरो, होसुई, कोसुई, बयूरी हार्डी

      मूल विर्यंत - शीफल सी, बीएसी 29

      3 चेरी वन, सैमस्टेल्ला, सन ब्रूस्ट, लैम्बर्ट, नीरो प्रथम, द्वितीय, तृतीय, डूरवन डी विग्नोला ,डूरवन डी सेसेना, बीगार्रेउ वन, बीगार्रेउ नेपोलियन, रानियर, कॉम्पैक्ट स्टेला, सुमीत, सिल्विया, सचनीडेरस.

      मूल विर्यंत - मुज्ज़ार्द एफ12 / 1, कोल्ट, कोल्ट एमला, गिसेला

      4 बादाम टेक्सास क्रिस्तोमोरतो, तुओनो, फिलीपोसी, ओफ्रागीयूलिओ, जेन्को, फेरीजीयस, फेराड्यूल, रोबिजन
      5 खुबानी हरकोट, कैनिनो, तारादिवो, एंजेलयो इरानी, विनाटची

      मूरपार्क, रेड गोल्ड.

      6 आडू एंडरोस, बेबी गोल्ड -7, अर्ली एलबेरटा, सन क्रेस्ट

      मूल विर्यंत - ब्रॉम्पटन, सेंट जुलिएन ए, पी. मय्रोबलाना

      7 प्लम अर्ली प्रोलिफिक

      मूल विर्यंत - ब्रॉम्पटन, सेंट जुलिएन ए, पी. मय्रोबलाना

      8 अखरोट सोरेंटो, ग्रेनोबल, फ़्रांक्यूत्ते, हार्टले, यूरेका, कर्पथिओन
      9 हैजलनेट तोंडा ग्रिफ्फोनी, ग्रिफ्फोंस, तोंडा रोमाना जेंटल, डेला लांघे, बार्सिलोना, व्हाइट हार्ट, मेलविल डी विल, ऑकलैंड
      10 पिस्ताचेओ नट नपोलेताना
      11 अंजीर सफेद और काले रंग की किस्में
      12 कैरोब सेल-608
      13 जैतून तेल के प्रकार - कैरोलिया बियानकोलीला, जैतुना, लेकिनो, मोरायोलो, कोरातिना, पेंदोलिनो, किप्सरसिनो, फ्रान्तोयो

      अचार के प्रकार- नोकेलारा बेलिसे, नोकेलारा एटना, नोकेलारा मैस्सिनसे, टोन्दा इबेला, पिचोंलाइन, डोलैक केरीग्नोला, लटराना

      14 स्ट्रॉबैरी फर्न सिल्वा, डगलस, चांडलर, पजारो, गोरिला ऐडीए, कोनफुतुरा ब्राइटन
      15 किवी फल एलीसन, ऐबॉट, मोंटी, ब्रूनो, हेवर्ड, ट्मोरी
      16 अंगूर पेरला डी-ओसाबा, फ्लेम सीडलेस, किंग रूबी, इटालिया, कार्डोंन्ने, पिनोट एनओआईआर, कार्ब्रनेट, अग्नि ब्लैंक, टश- ए- गणेश, बी 1 पोर्टूगेइसेर (125 ए.ए. रेड), कार्डोंन्ने (बोर्नर वाइट), मुलर (ठुर्गाऊ), औक्सरोइस (बोर्नर), बच्चुस (5बीबी), फ्रुहबर्गअंडर 5 सी, दुन्केलफील्डर 5 बी बी, गेवरजत्रारामाइनर 125 ए.ए. वाइट चेनिन ब्लांस बी220 , मरसान्ने (बी574), रौस्सन्ने (बी468), रिसलिंग (बी49), सेमीलोन (बी173), किन्सौट (एन 6), कार्डोंन्ने (बी 96), सौविग्नम (बी 241), जम्मे (एन 509), मेरलॉट (एन 181)

      मूल विर्यंत - 5 बी बी, आरयू140, 41 बी, आर 99, 1103

      17 नींबू प्रजाती वालेंसिया तारुको कैम्पबेल, कैम्पबेल वाशिंगटन, सैन्गुईनेल्लियो, , वालेंसिया तारुको ओइल्नडो, क्लेमेंटाइन मतरोड़, क्लेमेंटाइन मतरोड़ नुटेस, मोरो मोसकाटो
      18 शफ़तालू
      (बड़ा आड़ू)
      रेड गोल्ड, अर्ली ब्लेज़, मेफेयर, स्नो क्वीन
      19 आवंला नरिंदर 6, नरिंदर 7, नरिंदर 10, चकाया
      20 आम सिंधु, अमरपाली,, मलिका, डी 51, रामकेला
      21 अनार गणेश, कंधारी, जोधपुर रेड, मृदुला, मुस्केट
       
      अगला
मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|दिशा निर्देश और प्रकाशन|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|घोषणाएँ|नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग|हमारे बारे में
Visitor No.: 03460803   Last Updated: 13 Jan 2016