घरओवरवियूसंगठनात्मक व्यवस्थाइन्फ्रास्ट्रक्चरभविष्य की रणनीतिगैलरीप्रशासनG2G Loginमुख्य पृष्ठ     View in English    
  बागवानी के ऑनलाइन पोर्टल में आपका स्वागत है     हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना-पर्यावरण एवं सामाजिक प्रबंधन रुपरेखा      उद्यान प्रसार अधिकारी भर्ती    
मुख्य मेन्यू
एक नज़र में बागवानी
नागरिक सेवाएं
सामान्य सूचना
वार्षिक प्रशासनिक प्रतिवेदन
आर. एफ. डी.
फ्लोरीकल्चर
छिडकाव सारिणी
बागवानी सम्बंधित मासिक कार्यसारिणी
फल परिरक्षण सम्बंधित कार्यसारिणी
कीटों की रोकथाम के लिए मासिक कार्य सारिणी
पुष्प उत्पादन सम्बन्धित मासिक कार्य सारिणी
विभागीय फलोद्यान /फल पौधशालाओं हेतु मानक संचालन प्रक्रिया
प्रशिक्षण पुस्तिका
परिचालन संदर्शिका
सूचना का अधिकार नियम 2005
निविदा
सम्बंधित वेबसाइटे
हमसे सम्पर्क करें
मौसम और ऐड ऑन आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम 2018-19
फफूंदनाशकों/कीटनाशकों की परीक्षण रिपोर्ट
नागरिक प्राधिकरण
लोकसेवा गारंटी सेवाएँ सम्बन्धी-अधिसूचना
हिमाचल प्रदेश में फलों के पेड़ का मूल्याकन मापदंड
शिकायत निवारण तंत्र के तहत प्रावधानों को लागू करने के लिए परियोजान की सुरक्षा व्यवस्था
नीलामी सुचना
वर्षाकालीन फल पौधों की दर
शरदकालीन फल पौधों की दर
फल उत्पादन को बढाने हेतु सेवाएं

आधारभूत सरंचना


 

किसानों को पौधों के स्वास्थ्य से सम्बंधित समस्याओं के समाधान के लिए प्रयोगशालाओं के आधार पर सेवाएं उपलब्ध करवाई जाती है . जिनकी आधारभूत संरचना निम्नलिखित है:

           1. पत्ती विश्लेषण प्रयोगशाला

           2. प्लांट हैल्थ क्लीनिक

           3. जैव नियंत्रण प्रयोगशाला

            

                

पत्ती विश्लेषण प्रयोगशालायें: :

पत्ती विश्लेषण प्रयोगशालाओं में पौधों की पतियों के रासायनिक विश्लेषण के आधार पर फल उगाने वाले क्षेत्रों में बगीचों की पोषक तत्वों की स्थिति का आंकलन करना है ताकि बाद में उन क्षेत्रों का पोषक मानचित्र तैयार किया जा सके
ऐसी तीन प्रयोगशालायें फल फसलों के उत्पादन क्षेत्रों में कार्य कर रही हैं. .

स्थान
स्थापना का वर्ष
विश्लेषण क्षमता (नमूनों की संख्या)
जिलों के नाम
विश्लेषण के लिए उपलब्ध की गई सुविधा
नवबहार , शिमला
1975
10000
शिमला, किन्नौर, सोलन, सिरमौर, बिलासपुर सूक्ष्म और दीर्घ पोषक तत्व
बजौरा (कुल्लू)
1987
5000
कुल्लू, मंडी, लाहौल एवं स्पीति सूक्ष्म और दीर्घ पोषक तत्व
धर्मशाला (कांगड़ा)
1983
5000
काँगड़ा, ऊना, हमीरपुर, चंबा सूक्ष्म और दीर्घ पोषक तत्व

ग्रैन्डिंग इकाई के नमूने: :

जिला किन्नौर के रिकांगपियो तथा जिला चंबा के पांगी में दो पत्ती ग्रैन्डिंग इकाइयों की स्थापना की गई है| जहाँ पत्तियों का प्रारंभिक दोहन कर मुख्य विश्लेषण किया जाता है

पौधों के लिए क्लिनिक:

बागवानो को फल पौध पोषण की समस्याओं की जानकारी पौधशालाओं में प्रशिक्षण के आधार पर उपलब्ध करवाई जाती है. इस कार्य के लिए निम्न आधारभूत ढांचे की संरचना की गई है .

क्र.स.
जिलों के नाम
स्थान
1.
शिमला
कोटखाई
2.
मंडी
मंडी
3.
कांगड़ा
धर्मशाला
4.
कुल्लू
बजौरा

जैविक नियंत्रण लेबोरेटरी:

उद्यानों में फसलों को कीटो से बचाने के लिए और साथ ही प्राकृतिक खाद को बढ़ावा देने के लिए शिमला जिले के रझाना(न्यू शिमला के निकट) में एक जैविक नियंत्रण प्रयोगशाला की स्थापना की गई है जहाँ पर कुछ प्रमुख कीट जैसे प्रेडटर/ परजीवी कीटो को प्रयोगशाला में पाला जाता है और उन्हें बगीचों में कीटो को नियंत्रित करने के लिए छोड़ा जाता है जिससे की पर्यावरण प्रदुषण को कम करने में भी सहायता मिलती है.

जैविक नियंत्रण प्रयोगशाला के अंतर्गत जैव नियंत्रण एजेंटों की विस्तारपूर्वक जारी की गई सूची.

क्र. सं. जैव-एजेंट कीट के खिलाफ कुछ प्रभावकारी प्रयोग
1. अफीटीस एसपी.प्रोकिला ग्रुप संजोस स्केल
2. फारोक्य्मनुस फ्लेक्सीबिलिस संजोस स्केल
3. चरीसोपरला कारनेया वोल्ली एप्पल अफिड़
4. ट्रिचोग्राम्मा चिलोनिस अनार बटरफ्लाई
5. अफेलिनुस माली वोल्ली एप्पल अफिड़
               
मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|दिशा निर्देश और प्रकाशन|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|घोषणाएँ|नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग
Visitor No.: 03216205   Last Updated: 13 Jan 2016